प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना क्या है और इसके क्या लाभ है?

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना

भारत सरकार द्वारा हमारे देश में बहुत सी ऐसी योजनाएं चलाई जाती है , जिसके माध्यम से भारत के सभी देशवासियों को लाभ प्राप्त होता है। इन योजनाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए भारतवासियों को केवल इस योजना के लिए एक आवेदन पत्र का जमा करनी होती हैं।

Contents hide

 हाल ही में भारत सरकार द्वारा ऐसी योजनाएं लाई गई , जिसके माध्यम से ज्यादातर किसानों , गरीब परिवार , बीपीएल के नीचे के वर्ग के लोग , छात्र एवं छात्रा इत्यादि को बहुत ही ज्यादा लाभ प्राप्त हुआ है।

 ऐसे में हमारी भारत सरकार ने फिर से गर्भवती माताओं के लिए एक योजना लाई है , इस योजना का नाम प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना है। इस योजना के माध्यम से भारत सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं को उनका ध्यान रखने के लिए कुछ सहायता राशि प्रदान कराई जाती है।

 इस सहायता राशि को सीधे महिलाओं के खाते में भेज दी जाती है। आप में से बहुत से लोग इस योजना के बारे में जानते होंगे , परंतु यदि आप नहीं जानते हैं , तो यह लेख आपके लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होने वाला है। यदि आप मातृ वंदना योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं , तो कृपया आप हमारे द्वारा लिखे गए इस महत्वपूर्ण लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना क्या है ?



प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना के रूप में ही 2010 में शुरू किया गया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 2014 में इसका नाम बदलकर मातृ सहज योजना कर दिया गया। परंतु बाद में इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा ही 1 जनवरी 2017 को इसका नाम बदलकर मातृ वंदना योजना कर दिया गया। 

यह योजना संपूर्ण देश में लागू कर दी गई है। इस योजना के माध्यम से भारत के प्रत्येक गर्भवती महिलाओं को उनके खान पान एवं स्वास्थ्य का ध्यान रखने हेतु भारत सरकार द्वारा उन्हें सहायता राशि प्रदान कराई जाएगी। यह योजना केवल भारत की महिलाओं के लिए ही उपयुक्त है।

इस योजना के माध्यम से माता एवं पुत्र के स्वास्थ्य से जुड़ी आवश्यकता को पूरा करने के लिए परिवार के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जा रहा है। यह योजना भारत की गर्भवती महिलाओं के साथ-साथ बच्चों को स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए भी लाभदायक साबित होगा।

मातृ वंदना योजना का संचालन किसके द्वारा किया जा रहा है ?



क्या आप जानते हैं ? मातृ वंदना योजना का संचालन कौन कर रहा है , यदि नहीं तो हम आपको यह बताना चाहते हैं , इस योजना का संचालन भारत के विकास मंत्री के द्वारा प्रधानमंत्री के नेतृत्व में संचालित की जा रही है। 

इस योजना को भारत के प्रधानमंत्री जी के द्वारा 1 जनवरी 2017 से संचालित किया जा रहा है। इस योजना में अनेक परिवर्तन किए गए हैं। जिससे कि इसकी धनराशि में भी परिवर्तन किए गए हैं। 



गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कितने रुपए की आर्थिक मदद मिलती है ?



भारत सरकार द्वारा इस योजना को भारत में इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना के नाम से 2010 में शुरू किया गया था। परंतु अब इसका नाम बदलकर मातृ वंदना योजना कर दिया गया है। इस योजना के माध्यम से गर्भवती एवं बच्चों को स्तनपान कराने वाली महिलाओं एवं बच्चों की देखभाल एवं खान पान का ख्याल रखने के लिए धनराशि प्रदान कर आती है।

 इस योजना के तहत देश की गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं को ₹6000 तक के आर्थिक मदद प्रदान कराई जाती है। या धनराशि वर्ष 2013 से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत चलाया जा रहा था। ऐसा दावा किया जा रहा है , कि वर्ष 2019 के सितंबर से अब तक महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से इस योजना के तहत कुल 4000 करोड रुपए से अधिक की धनराशि लाभार्थियों को वितरित कर दी गई है।

मातृ वंदना योजना का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

इस योजना का मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित प्रकार से है :-

  • इस योजना के तहत भारत की गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाओं को यह धन राशि प्रदान कराई जाती है , ताकि वे अपना और अपने बच्चे के पोषण का ध्यान रख सकें।
  • लगभग हर साल गर्भावस्था की स्थिति में गरीब माताओं की मृत्यु हो जाती है , ऐसे में इस योजना का लाभ खासकर ऐसी ही महिलाओं को प्राप्त कराया जाता है , ताकि वे अपने खान-पान का ध्यान रखें और एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सके।
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य गर्भवती एवं बच्चों को स्तनपान कराने वाली महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर एवं पोषण युक्त बनाने के लिए नकद प्रोत्साहन प्रदान करना है।

गर्भवती महिलाओं को सहायता धनराशि किस प्रकार प्रदान कराई जाती है ?



गर्भवती महिलाओं को उनकी देखभाल के लिए सहायता राशि निम्न तीन किस्तों पर प्रदान कराई जाती है :-

पहली किस्त :- 

महिलाओं को गर्भावस्था में पंजीयन के दौरान उन्हें सहायता राशि प्रदान कराई जाती है , यह सहायता राशि ₹1000 की होती है।

दूसरी किस्त :-

इस सहायता धनराशि को महिलाओं को 6 महीने के बाद तथा प्रसव के पहले प्रदान कराई जाती है , सहायता की यह धनराशि ₹2000 की होती है।

तीसरी किस्त :- 

यह सहायता धनराशि बच्चे के जन्म के बाद तथा बच्चे को लगने वाले अनेक टीका करण के पहले चक्र के समाप्ति के बाद प्रदान कराया जाता है , सहायता की  धनराशि ₹2000 की होती है। यह धनराशि बच्चे की देखभाल के लिए प्रदान कराई जाती है।

अतिरिक्त धनराशि महिलाओं को जननी सुरक्षा योजना के तहत महिलाओं की देखभाल के लिए एक सहायता धनराशि प्रदान कराई जाती है , यह सहायता राशि ₹1000 की होती है।


मातृ वंदना योजना में आवेदन करने के लिए पात्रता क्या होनी चाहिए ?


जैसा कि हम सभी जानते हैं , किसी भी योजना के लिए आवेदन करने के लिए हमारे पास कुछ पात्रताए भी होनी अति आवश्यक होती है , ऐसे में pradhanmantri matri vandana yojana का लाभ प्राप्त करने के लिए महिलाओं के पास निम्नलिखित पात्रता होनी अति आवश्यक है।

  • महिला को भारत का मूल निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए महिला को गर्भवती होना अति आवश्यक है।
  • या फिर महिला अपने बच्चे को स्तनपान कराती हो , तब उस महिला को इस योजना का लाभ प्राप्त हो सकेगा।

मातृ वंदना योजना में आवेदन करने के लिए महिला के पास कौन से आवश्यक दस्तावेज़ होने चाहिए ?

जैसा कि हम सभी जानते हैं , सरकार द्वारा चलाई गई किसी भी योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए हमारे पास पात्रता के साथ साथ आवश्यक दस्तावेज़ भी होने अति आवश्यक है।

  • महिला का आधार कार्ड
  • गर्भवती महिला का बैंक अकाउंट का पासबुक
  • सरकारी अस्पताल से जारी किया गया स्वास्थ्य कार्ड
  • संस्थान से जारी कर्मचारी का पहचान पत्र

मातृ वंदना योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

मातृ वंदना योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आपको हमारे द्वारा नीचे बताए गए निम्न चरणों का पालन करना होगा :-

Step 1 :- 

सबसे पहले आपको इस योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।

Step 2 :- 

आप चाहे तो हमारे द्वारा नीचे दिए गए लिंक से इस वेबसाइट को ओपन कर सकते हैं।

https://pmmvy-cas.nic.in/

Step 3 :- 

वेबसाइट को ओपन करने के बाद आपको इसमें लॉग इन करना होगा।

Step 4 :-

लॉग इन करने के बाद आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारियों को सही सही भरना है। आपको इस बात का अवश्य ध्यान रखना होगा कि आपके द्वारा भरी गई सभी जानकारियाँ सही-सही हो।

step 5 :- 

6 महीने बाद आपको पुनः इस वेबसाइट को ओपन करना होगा , पुनः लॉग इन करना होगा और दूसरी किस्त के आवेदन फॉर्म को भरना होगा। ध्यान रहे आपके द्वारा भरी जाने वाली सभी जानकारियाँ सही सही हो।

Step 6 :-

बच्चे के जन्म के बाद आप को टीका करण के पहले चक्र को पूरा हो जाने पर इस वेबसाइट को ओपन करके लॉग इन करना होगा और तीसरी किस्त के आवेदन फॉर्म को सही सही भरना होगा।

यदि आप हमारे द्वारा बताए गए इन प्रक्रियाओं को समय-समय पर पूरा करते रहते हैं , तो आपको इस योजना के माध्यम से जारी की गई तीनों किस्तों की धनराशि अवश्य प्राप्त होगी।

मातृ वंदना योजना के लाभ क्या है ?



हमारे भारत सरकार द्वारा चलाई गई लगभग सभी योजनाओं के माध्यम से प्रत्येक देशवासी को लाभ प्राप्त होता है , इस योजना के माध्यम से केवल महिलाओं को ही लाभ प्राप्त होता है , जो कि निम्नलिखित प्रकार से है :-

  • इस योजना के माध्यम से लगभग प्रत्येक गर्भवती महिलाओं को उसके एवं उसके बच्चों के लिए धन राशि प्रदान कराए जाते हैं।
  • इस सहायता धनराशि के माध्यम से जो गरीब महिलाएं होती हैं , वह भी एक स्वस्थ पुत्र को जन्म देती हैं।
  • इस योजना के माध्यम से प्रत्येक गर्भवती महिलाओं को तीन किस्तों में समय-समय पर सहायता राशि प्रदान कराई जाती है।
  • इस योजना के माध्यम से बाल मृत्यु दर की संख्या घट सकती है।
  • बच्चे को जन्म देने के दौरान कभी-कभी महिलाओं की पोषण युक्त भोजन न मिलने के कारण उनकी मृत्यु हो जाती थी , परंतु इस योजना के माध्यम से ऐसी महिलाओं को बचाया जा सकता है।

निष्कर्ष :- 



प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना योजना में रजिस्ट्रेशन करवा कर प्रत्येक गर्भवती महिलाएं एवं बच्चे को स्तनपान करवाने वाली महिलाएं खुद को एवं अपने बच्चे को एक अच्छा पोषण प्रदान कर सकती हैं। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए केवल आपको इसके लिए आवेदन करवाना होगा।

Leave a Reply